मोबाइल का स्वीच हुआ ऑफ, पत्र भेजकर खुद की जान को बता रहा खतरा!

धनबाद(न्यूज़ क्राइम 24): बड़े नेताओं और बड़े पुलिस पदाधिकारियों के साथ संबंधों का हवाला देकर बड़े घरों की लड़कियों और औरतों को फंसा कर याैन शोषण और ब्लैकमेलिंग के आरोप में घिरने के बाद कोयला व्यवसायी व ठेकेदार बादल गौतम के पीछे अब धनबाद पुलिस पड़ी है। गिरफ्तारी के लिए पुलिस की कवायद को देख बादल ने अपने मोबाइल का स्विच ऑफ कर लिया है। दूसरी तरफ डाक से पुलिस को पत्र लिखकर सफाई दे रहा है। पत्र में बादल ने खुद की जान को खतरा बताया है। हालांकि दुष्कर्म और ब्लैकमेलिंग के सवाल पर बादल ने पत्र में कुछ नहीं कहा है.

शहर के चर्चित दुष्कर्म कांड का आरोपी बादल गौतम ने वरीय पुलिस अधीक्षक असीम विक्रांत मिंज को रजिस्टर्ड डाक से पत्र देकर अपने और अपने परिवार के सुरक्षा की गुहार लगायी है। इस पत्र के माध्यम से बादल ने सुरेश सिंह हत्या कांड से लेकर अब तक की घटनाओं का जिक्र करते हुए और बिहार के विधायक अनंत सिंह समेत कई अन्य लोगों से अपनी जान को खतरा बताया है। बादल ने अपने पत्र में कहा है कि सुरेश सिंह हत्या कांड में स्व. सुरेश सिंह के पुत्र अजय सिंह ने तत्कालीन विधायक संजीव सिंह और शशि सिंह के खिलाफ गवाही देने के लिए दवाब बनाया और हत्या करा देने की धमकी दी थी। वर्ष 2013 में उनके करीब राजन सिंह की चुन्नू सिंह ने हत्या करा दी। चुन्नू के मित्र की पत्नी संगीता राजगढ़ीया ने केस किया और यह झूठा साबित हुआ। जेल मे बंद फहीम खान के भतीजा चीकू के खिलाफ केस दर्ज कराया तो उसकी महिला मित्र अनुपा गुप्ता ने उन पर झूठा केस कर दिया।