मां दुर्गा को दी गई नम आंखों से विदाई

अररिया(रंजीत ठाकुर): सोमवार को विजयदशमी के दिन मां दुर्गा को नम आंखों से लोगों ने अंतिम विदाई दी। लोगों ने मां दुर्गा को कंधों पर रखकर शहर का भ्रमण कराया। भक्तों का मानव जनसैलाब उमड़ पड़ा हो। लोगों को कुरौना जैसी महामारी का भी कोई खौफ नहीं दिखा। कोरोना पर आस्था भारी पड़ा। मां दुर्गा के विसर्जन में महिला पुरुष यहां तक कि बच्चे भी नम आंखो से मां दुर्गा को विदाई देते नजर आए.

फारबिसगंज शहर के करीब से बहने वाली परमान नदी, त्रिसुलिया एवं सुल्तान पोखर घाट पर ढोल नगाड़ों के साथ प्रतिमा का विसर्जन किया गया। 10 दिनों से चले आ रहे असत्य पर सत्य की जीत और बुराई पर अच्छाई की जीत का त्यौहार दशहरा धूमधाम से सम्पन्न हुआ।इसे लेकर विसर्जन के दौरान पुलिस व्यवस्था भी देखा गया। दशहरा हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को विजयादशमी का आयोजन होता है। भगवान राम ने इसी दिन रावण का वध किया था तथा देवी दुर्गा ने नौ रात्रि एवं दस दिन के युद्ध के उपरान्त महिषासुर पर विजय प्राप्त की थी। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है। हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले लोग इसे बड़ी श्रद्धा और उत्साह के साथ मनाते हैं।