महथावा लक्ष्मी मंदिर में भक्तिभाव से मनाई जा रही है देवी मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना

अररिया(रंजीत ठाकुर): शुक्रवार की शाम सुख,शांति व समृद्धि की आराध्या देवी माता लक्ष्मी की पूजा श्रद्धापूर्वक आयोजित की गई। शरद पूर्णिमा के शुभ अवसर पर विशेषकर बंगाली समुदाय व मिथिलांचल वासियों के द्वारा व्रत रखते हुए लक्ष्मी देवी की पूजा अर्चना घर-घर करने की परंपरा है जो कोजागरी लक्ष्मी पूजा अथवा कोजागरा के नाम से भी प्रचलित है। पड़ोसी राष्ट्र नेपाल में भी इस तिथि को धूमधाम के साथ लक्ष्मी माता की पूजा मनाने की परिपाटी है।

इस अवसर पर भरगामा प्रखंड क्षेत्र के महथावा हलवाई टोला श्री श्री 108 लक्ष्मी माता मंदिर में धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है लक्ष्मी पूजा का पर्व।बताते चले कि इस मंदिर का स्थापना वर्ष 1871 में मंदिर के वर्तमान पुजारी लाल सिंह के पूर्वज रितो सिंह ने पंडित देबू झा के द्वारा करवाया था।तब से ही इस मंदिर में लक्ष्मी पूजा के ठीक दूसरे दिन से मूर्ति विसर्जन होने तक मंदिर परिसर में पूरी साज बाज के साथ रात्रि को जागरण का भव्य आयोजन किया जाता था।लेकिन इस वर्ष मंदिर के मुख्य पुजारी लाल सिंह से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना महामारी एवं आचार संहिता लागू होने के कारण प्रशासन द्वारा भव्य आयोजन का अनुमति नहीं दिया गया जिसके वजह से

इस बार भव्य आयोजन होना संभव नहीं है लेकिन प्रशासन के द्वारा दिए गए गाइडलाइन को पालन करते हुए पूरे विधि-विधान एवं धर्म निष्ठा के साथ शुक्रवार से शुरू होने वाली लक्ष्मी पूजा और सोमवार को विसर्जन होने तक शांतिपूर्ण तरीके से मंदिर के पुजारी लाल सिंह एवं पंडित हरेराम झा द्वारा विधि पूर्वक पूजा संपन्न करवाया जाएगा.मौके पर ललित सिंह,संजय सिंह,मुन्ना सिंह,अजय सिंह,सुमन सिंह,नीतीश सिंह,सन्नी सिंह,आदित्य सिंह,अमन्त सिंह,कमलेश्वरी साह,मोहन शर्मा,अखिलेश साह,राम साह,राजेंद्र साह,विधान,यश,अंश आदि पूजा में मुख्य रूप से शामिल दिखे।