मनी लाॅन्ड्रिंग केस में बेउर जेल में बंद आरजेडी एमएलसी रीतलाल यादव जेल बाहर!

फूलवारीशरीफ(अजित यादव): मनी लाॅन्ड्रिंग केस में बेउर जेल में बंद रीतलाल यादव को पटना हाईकोर्ट ने जमानत दिया तो वे जेल से बाहर अपने घर कोथवा पहुंचे । दस साल तक विभीन्न मामलो में जेल में रहे रीतलाल ने जेल से ही विधान परिषद की सदस्यता ली थी और अब दानापुर से ही विधानसभा जाने की तैयारियों में जुट गए हैं। विधानपरिषद सदस्य रीतलाल ने कहा राजद से टिकट नही मिला टी दानापुर से निर्दलीय चुनाव लड़ने मैदान में उतरने से कोई नही रोक सकता है । दानापुर की जनता का अपार जन समर्थन उन्हें भारी बहुमत से विधानसभा भेजने का काम करेगी. बता दें कि पटना हाइकोर्ट ने एमएलसी रीतलाल यादव को मनी लॉन्ड्रिंग मामलें में राहत देते हुए यह स्पष्ट किया कि इस मामलें में उन्हें जेल में नहीं रखा जा सकता है। न्यायमूर्ति शिवाजी पांडेय की खंडपीठ ने रीतलाल यादव की याचिका पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था बाद में इस मामले पर फैसला आया।
वरीय अधिवक्ता योगेश चंद्र वर्मा ने सुनवाई के दौरान बताया था कि मनी लॉन्ड्रिंग के मामलें में अधिकतम सजा 7 वर्षों की होती हैं, जबकि रीतलाल यादव इस मामलें 7 वर्ष से अधिक समय से जेल में रह चुके हैं। इसलिए, कोर्ट ने यह स्पष्ट किया कि इस मामलें में उन्हें जेल में नहीं रखा जा सकता है.

विधान पार्षद रीतलाल यादव शनिवार की शाम को हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद बेउर जेल से बाहर निकले। वह पिछले दस साल से विभिन्न मामलों में बेऊर जेल में न्यायिक हिरासत में थे। इस से पहले पूर्व मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में भी जमानत मिलने के बाद उनके बाहर निकलने का रास्ता साफ हुआ। इस बीच बहुत ही गोपनीय ढंग से रीतलाल यादव जेल से बाहर निकले। हालांकि जमानत पर बाहर निकलने की सूचना मिलने के बाद उनके समर्थक उनके पैतृक गांव कोथवां पहुंच गए। उनसे मिलने का सिलसिला देर रात तक जारी रहा।रीतलाल यादव ने कहा हर हाल में हम विधान सभा का चुनाव दानापुर से ही लड़ेंगे | उहोंने दानापुर की जनता का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हम सब से पहले जनता के बीच जा कर उन से आशीर्वाद लेंगे | विकास का काम जो भी रुका हुआ था,उसे प्राथमिकता के अधर पर पूरा कराएँगे | जनता के लिए हम हर समय समर्पित हैं।