बिहार की बेटी नेपाल की बहू, सरिता गिरी सांसद पर कार्यवाही निन्दनीय : राजेश शर्मा

अररिया(रंजीत ठाकुर): नेपाल में मधेस वादी दल से सांसद सरिता गिरी पर समाजवादी पार्टी के द्वारा कार्यवाई कर सांसद पद से बर्खास्त करना मधेशी दल के दोहरी भूमिका को दर्शाता है. बिहार की बेटी नेपाल की बहू को पार्टी से निष्कासित कर मधेशी वादी दल ने बेटी रोटी के सम्बंध की बात करने वाले नेता आज सरकार के विरुद्ध नेपाल में जारी नागरिकता कानून, जारी नए नक्शे पर नेपाल के संसद में प्रमाण के साथ संविधान संसोधन के लिये विधेयक पंजीकृत करायी थी।लेकिन मधेस वादी दल ने इन मुद्दों को निर्भीकता से उठाने पर कार्यवाई कर पहाड़ी मूल के महिला को सांसद बनाना अति ही निन्दनीय है। उक्त बातें भारत नेपाल सामाजिक सांस्कृतिक मंच के अध्यक्ष राजेश कुमार शर्मा ने कही है बता दे कि नेपाल में जारी नए नागरिकता कानून, व जारी नए नक्शा लिपुलेख,कालापानी क्षेत्र को शामिल कर जारी किए गए नए नक्शा का बिरोध करते हुए गिरी के द्वारा संसद में संशोधन प्रस्ताव पेश की थी ।जिसके बाद पार्टी के द्वारा संशोधन प्रस्ताव वापस नही लेने पर स्पस्टीकरण के साथ कार्रवाई की बात कहा था।अब बेटी रोटी के सम्बंध की दुहाई देने वाले मधेश वादी नेता के साथ रहे युवा अगला क्या कदम उठता है यह देखने वाली बात है।वही सरिता गिरी पर कार्रवाई के बाद मधेशी दल में रही युवाओं मैं आंतरिक विरोध देखा जा रहा है।