फूलवारी से लोजपा उम्मीदवार सुरेश पासवान ने साजिश के तहत नामांकन रद्द करने का लगाया आरोप!

पटना(अजित यादव): फुलवारी सुरक्षित विधानसभा चुनाव क्षेत्र 188 से लोकजनशक्ति पार्टी से भावी उम्मीदवार सुरेश पासवान ने अपने नामांकन रदद् हो जाने के बाद बड़ा आरोप लगाया है । एलजेलपी उम्मीदवार सुरेश पासवान ने कहा है कि सत्ता के इशारे पर जानबूझकर साजिश के तहत अधिकारियों ने उनका नामांकन रदद् कर दिया है क्योंकि वे क्षेत्रीय होने के नाते जीत के सबसे प्रबल दावेदार थे और फूलवारी में जिला परिषद एवम प्रखंड प्रमुख भी रह चुके थे। इनका कहना है कि अब एलजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान को इस पूरे साजिश से अवगत कराएंगे और अधिवक्ताओं से राय मशविरा कर न्याय के लिये कोर्ट जाएंगे।सुरेश पासवान ने कहा कि आम जनता में निराशा छा गई वे हर हाल में यह जानना चाहते हैं कि उनके सबसे चहेते उम्मीदवार का किस परिस्थिति में नामांकन रद्द किया गया। उनके साथ हुए घटना से आम जनता में काफी रोष व्याप्त है हर क्षण दर्जनों लोगों के द्वारा संपर्क कर अपने तरीके विरोध जता रहे हैं। वे इस क्षेत्र के सबसे लोकप्रिय जमीनी नेता है, पूर्व में जिला पार्षद व प्रमुख रह चुके है। इस तरह विपक्षी दलों के प्रत्याशियों का नामांकन रद्द होना सरकार की तानाशाह मंशा को जाहिर करता है। सुरेश पासवान के साथ मौजूद सैंकड़ों कार्यकर्ताओं ने परिस्थिति का स्पष्टीकरण मांग करते हुए इसे चुनावी धांधली करार दिया तथा निर्वाची पदाधिकारी पर लापरवाही बरतने का आरोप लगते हुए करवाई की मांग कर रहे हैं.

एलजेपी प्रत्याशी ने कहा कि वे नामांकन पत्र दो या तीन सेटों में जमा कराना चाह रहे थे लेकिन काउंटर पर मौजूद लोगों ने उन्हें कहा कि आपका सब कागजात ठीक है तो दूसरा सेट जमा करने की क्या जरूरत है ।
सुरेश पासवान ने बताया कि निर्वाची पदाधिकारी कपिलेश्वर मंडल ने जो डॉक्यूमेंट देर से प्रस्तुत करने एवम एक फार्म ए का कॉलम नही भरा होने का हवाला देकर नामांकन रदद् किया है उसकी जांच के लिए वहां परिसर में लगे सीसीटीवी फुटेज से जांच किया जा सकता है । इनका कहना है की निर्वाचन आयोग का निर्देश है कि कोई त्रुटि या कहीं कुछ छूट गया हो तो प्रत्याशी की मौजूदगी में उसे अधिकारियों को भरवा देना / पूर्ण करा देना है ,न कि नामांकन रदद् कर देना है । सुरेश पासवान ने बताया कि ब्लॉक में नामांकन स्थल पर आखिरी दिन पौने एक बजे दाखिल हुए और कागजात जमा कराए जिसमे काफी देर करके उन्हें दो बजकर पचास मिंनट पर निर्वाची पदाधिकारी के समक्ष बुलाया गया । इतना ही नही उसी समय उन्हें एक नोट्स दिया गया कि नामांकन के आखिरी दिन दिन के ग्यारह बजे तक एफिडेविट का एक कागज जमा कराना था । सुरेश पासवान ने बताया कि चुनाव आयोग के नियमावली के अनुसार निर्वाची पदाधिकारी कार्यालय फुलवारी में दिनांक 16-10-2020 को 3:00 अपराह्न तक नामांकन पत्र जमा करना था जबकि मैंने 2:50 अपराहन में ही नामांकन पत्र जमा कर चुके हैं। फिर किस आधार पर मुझे एक नोटिस दिया गया जिसमें दिनांक 16 अक्टूबर 2020 को 11:00 बजे पूर्वाहन में ही नोटिस का जवाब देने को कहा गया है ।

वहीं फुलवारी शरीफ विधानसभा चुनाव क्षेत्र से वहां के जानीपुर के क्षेत्रीय जन प्रतिनिधि सुरेश पासवान का नामांकन फुलवारी शरीफ के निर्वाची पदाधिकारी सह एडीएम कपलेश्वर मंडल के द्वारा स्क्रुटनी के वावजूद भी रद्द करने के बाद उनके समर्थकों में मायूसी और आक्रोश का माहौल है। एलजेपी कार्यकर्ताओं का कहना है कि पूरे सूबे में सत्ता दल के एक भी प्रत्याशी का नामांकन रद्द नहीं हुआ है, लेकिन सुरेश पासवान का साजिश के तहत नामांकन रदद् किया गया है जो जीत के प्रबल दावेदार थे.

इस पूरे मामले में निर्वाची पदाधिकारी के हवाले से कहा गया है कि जिन उम्मीदवारों का नामांकन रदद् किया गया है और जो त्रुटि पायी है गयी है वह निर्वाचन आयोग के नियमावली के अनुसार ही किया गया है.

बिहार विधान सभा चुनाव में दुसरे चरण के लिए होने वाले मतदान के लिए फुलवारी सुरक्षित सीट 26 प्रत्याशिय ही चुनाव लड़ सकेगें। जिनमे जदयु से अरूण कुमार मांझी, नेशनल कांग्रेस पार्टी से सुरेन्द्र पासवान, संयुक्त किसान विकास पार्टी अमरेन्द्र कुमार, भारतीय लोक चेतना पार्टी कमलेश कांत चैधरी, बहुजन न्याय दल कुमार जैनेन्द्र प्रसाद, एआईएमआईएम कुमारी प्रतिभा, राष्ट्रीय जागृति पार्टी कैलाश पासवान, भारतीय सबलोग पार्टी गजेन्द्र मांझी, भाकपा माले गोपाल रविदास, पिपुल्स पार्टी आफ इंडिया धुरी दास, बहुजन मुक्ति पार्टी बच्चु पासवान, अम्बेडकर नेशनल काग्रेस मोती राम, द प्लुरल्स पार्टी रवि कुमार, भारतीय दलित पार्टी राधे रमण, रामेश्वर पासवान राष्ट्रीय जनसंभावना पार्टी, लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी शीला देवी, श्रीराज पासवान प्रबल भारत पार्टी, श्याम कुमार रजक भारतीय आम अवाम पार्टी, सतेद्र पासवान जाप, निर्दलीय अमर कुमार, अर्जुन पासवान भारतीय मोमिन फ्रंट, प्रतिमा कुमारी न्यु भारत मिशन, प्रतिमा कुमारी निर्दलीय, मनोहर प्रकाश चैधरी निर्दलीय, लक्ष्मी कुमारी भारतीय पंचशील पार्टी, शंकर कुमार निर्दलीय का इन सभी के नोमिनेशन को सही माना गया। जबकि पांच उम्मीदवार के नामांकन को रद्द कर दिया।