फुलकाहा लक्ष्मीपुर सड़क विभागीय लापरवाही के कारण एक बार फिर कटा।

अररिया(रंजीत ठाकुर): नरपतगंज प्रखंड मुख्यालय से सीमावर्ती पंचायतों को जोड़ने वाली लक्ष्मीपुर फुलकाहा सड़क एक बार फिर 10 दिनों के अंदर ही दुबारा कट गया। पिछले 15 सितंबर की रात को ही यह सड़क कट गई थी और इसे लेकर 16 सितम्बर को खबर भी प्रकाशित की गई थी। 19 सितंबर को मिट्टी डालकर टूटे-फूटे ईट रखकर इसकी खानापूर्ति कर दी गई और आवागमन शुरू कर दिया गया। परंतु इधर लगातार चार दिनों से हो रही बारिश के कारण एक बार फिर कई जगहों पर इस सड़क के कट जाने से सीमावर्ती पंचायतों का प्रखंड मुख्यालय से संपर्क भंग हो गया है इसके साथ साथ इस क्षेत्र के लोगों के लिए फारबिसगंज शहर जाना भी मुश्किल हो गया है, क्योंकि फुलकाहा बाजार से फारबिसगंज जाने के सभी रास्ते लगभग अभी कटे हुए हैं। फुलकाहा लक्ष्मीपुर सड़क पर कई स्थानों पर सड़क टूट गए एवं करीब 400 मीटर तक इस सड़क पर करीब 2 फीट से भी ऊपर पानी बह रहा है। बताते चलें कि इस संबंध में जब अररिया के सासंद प्रदीप कुमार सिंह से मोबाइल पर जानकारी लेनी चाही,परन्तु फोन से उनसे बात नहीं हो पाया।

वहीं इस संबंध में ग्रामीण कार्य विभाग,नरपतगंज के जेई राहुल कुमार से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि पानी घटने पर ही हम कुछ कर पाएंगे।अभी फिलहाल कुछ नहीं कर सकते। वही इस सड़क में पुल को लेकर जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस हेतु हमने 2017 में प्रपोजल भेजा था।पुनः फिर प्रपोजल मांगे जाने पर 2020 में मुख्य कार्यालय ,पटना को भेजा है,जो अबतक स्वीकृत नहीं हो पाया है। स्वीकृति मिलते ही हम इसमें पुल का निर्माण करेंगे। वही इसे लेकर नरपतगंज के अंचल पदाधिकारी प्रवीण कुमार ने बताया कि इस संदर्भ में मुझे जानकारी है और बीडीओ साहब को भी बताया गया है।इसके साथ ही हमने आपदा प्रबंधन विभाग,अररिया को इस संदर्भ में लिखित पत्र भी भेजा है। वही इस संबंध में जदयू के तकनीकी प्रकोष्ठ के जिला उपाध्यक्ष मनीष कुमार ने बताया कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों की लापरवाही एवं लूटखसोट का नतीजा है कि आज तक इस सड़क पर पुल का निर्माण नहीं हो पाया,जबकि इस सड़क पर दो बड़े आरसीसी पुल तथा सड़क को 2 फुट से अधिक ऊंचा करना आवश्यक है। स्थानीय विधायक इस पर कभी अमल नहीं किए,जिसका नतीजा यहां के आम जनों को भुगतना पड़ रहा है।

नरपतगंज विधानसभा के पूर्व विधायक देवयन्ती यादव ने कहा कि इस सड़क में दो बड़े पुल का जरूरत है और बनाना चाहिए इस संबंध में हम विभागीय अधिकारियों से बात कर जानकारी देते हैं।