फुलकाहा-नरपतगंज सड़क जर्जर!

Advertisement
Digiqole Ad

अररिया(रंजीत ठाकुर): फुलकाहा से प्रखंड मुख्यालय नरपतगंज को जाने वाली सड़क निर्माण के दो वर्ष बाद ही जर्जर हो चुकी है । करोड़ो की लागत से बना यह सड़क जगह-जगह गढ्ढो में तब्दील होने लगा है जिस कारण हजारों लोगों को आवागमन में नित्यदिन परेशानी होती है । इस पक्की रोड़ में फुलकाहा बाजार में बरसात के दिनों में सड़क नाला में तब्दील हो गया है तथा दर्जनों जगह बड़ा बड़ा गढ्ढा भी हो चुका है जिस कारण अधिक वारिश होने से इस रोड़ में एक से डेढ़ फीट पानी जमा हो जाता है ।वही पैदल चलनेवाले लोगो के साथ-साथ दोपहिया वाहन चालकों को भी आवागमन में काफी परेशानी होती है जबकि यह मार्ग उत्तर में नेपाल बोर्डर को जोड़ता है तो वहीं रोड़ को निर्माणाधीन सीमा रोड़ में भी मिलाया गया है । जबकि इस मार्ग से नित्यदिन सैकड़ो की संख्या में बड़ी वाहन भी चलती है । सीमा रोड निर्माण के लिए माल ढुलाई हेतु भी बड़ी वाहन इसी रोड से नित्यदिन गुजरती है। इस सड़क का निर्माण वर्ष 1980 में कराया गया था लेकिन निर्माण के बाद प्रशासनिक उदासीनता के कारण सड़क का मरम्मत ससमय नहीं किए जाने से रोड की स्थिति बद से बदतर होती चली गई खास बात यह है कि निर्माण के बाद से अब तक इस रोड में पुला का निर्माण नहीं हो पाया है। इस रोड का प्रखंड मुख्यालय से संपर्क होना यह प्रमाणित करता है कि क्षेत्र के लाखों लोगों के लिए यह मार्ग कितनी महत्वपूर्ण होगी जबकि मरम्मती के नाम पर टेंडर भी किया जाता है तथा लाखों रुपए का वारा न्यारा भी होता है वहीं सड़क में महज लीपा-पोती कर छोड़ दी जाती है जिसका फलाफल यह होता है कि सड़क बनते ही टूटने लगती है
जिला परिषद प्रतिनिधि कलानंद विराजी ने कहा की रोड निर्माण के समय निर्माण कंपनी के द्वारा घटिया सामग्री का उपयोग किया जाता है जिस कारण रोड जल्द ही टूट कर बिखर जाता है जिसकी शिकायत कई उच्च स्तरीय पदाधिकारियों से भी किया गया लेकिन किसी प्रकार की सुनवाई नहीं हुई।इस बाबत पथ निर्माण विभाग आर्यों के कार्यपालक अभियंता अरविंद कुमार ने कहा कि मामला संज्ञान में आया है जांच करा कर जल्द मरम्मत करवाएंगे. वही प्रखंड मुख्यालय नरपतगंज को जाने वाली मात्र एक सड़क है खास यह कि  फुलकाहा , पथराहा ,घूरना ,  बबुआन बसमतिया  आदि जगहों पर एसएसबी का बीओपी कैम्प भी है चूंकि एसएसबी का मुख्यालय बथनाहा है जिस कारण बीओपी में कार्यरत अधिकारी व जवानों का बथनाहा स्थित कैम्प में आना जाना लगा रहता है. वही यह पथ लाखो ग्रामीण लोगो के लिए आवागमन का मार्ग भी है।बाढ़ बरसात के समय इस सड़क की महत्ता और भी अधिक बढ़ जाती है । ग्रामीण क्षेत्र का लाइफ लाइन कहे जाने वाला यह सड़क जगह जगह जर्जर हो जाने से क्षेत्र के ग्रामीणों में जनप्रतिनिधियों के प्रति काफी आक्रोश भी देखा जा रहा है । चुकी इस सड़क में कई ग्रामीण सड़क को भी जोड़ा गया है।

Advertisement
Advertisements
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Digiqole Ad

Related post