पुलिस ने पाँच आरोपी को गिरफ्तार किया, कूपन में निकले एलसीडी नहीं देने पर हुई थी दोनों फेरीवाले कि हत्या

रांची(न्यूज़ क्राइम24): गुमला।गुमला पुलिस ने दो फेरीवाले हत्या कांड का किया खुलासा।कूपन में निकले एलसीडी नहीं देने पर हुई थी दो फेरीवाले कि हत्या।इस घटना की पुलिस ने गुत्थी सुलझा ली है।एसपी हरदीप पी जनार्दन के निर्देश पर पुलिस की टीम ने कार्रवाई करते हुए इस घटना में शामिल पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।गिरफ्तार हुए आरोपियों में श्यामलाल उरांव, संदीप उरांव, पवन उरांव, सलेंद्र उरांव और सावना उरांव शामिल है।

एलसीडी टीवी नहीं देने पर हुई थी हत्या-

गिरफ्तार हुए आरोपियों ने पुलिस के समक्ष स्वीकार किया की उनलोगो ने फेरी वालों से एक साड़ी खरीदने पर उसके अंदर से चार कूपन निकला।दो कूपन में इमरजेंसी लाइट, एक में हॉट पॉट लंच बॉक्स और एक में एलसीडी टीवी निकला।आरोपियों ने युवकों से एलसीडी टीवी मांगी तो उन्होंने इंकार कर दिया।इसी बात पर विवाद हुआ और उनकी हत्या कर दी गई।

कैसे हुई थी हत्या-

पुलिस को 30 अक्टूबर की शाम सिसई थाना क्षेत्र के मकला पहाड़ के पास झाड़ी में दोनों का शव मिला था।साड़ी और सलवार-सूट लेकर ले जाने वाला बैग भी मिला।स्थानीय लोगों की निशानदेही पर पहाड़ पर नीचे झाड़ी में दोनों बैग मिले. दोनों की हत्या गला रेतकर और पत्थर से कुचलकर की गई थी. नगर कुसुम टोली के पास से अपहरण कर जोरगोटोली घोड़ाटोली के पास मकला पहाड़ के बाद लमकी पहाड़ पर लाकर शव को छिपाने की नीयत से झाड़ी में फेंक दिया था।

दोनों युवकों के हैं तीन-तीन बच्चे-

मृतक का भाई विमलेश ने बताया कि उसका भाई रंजीत की तीन बेटियां है, जबकि पत्नी लक्ष्मी देवी प्रेग्नेंट है।डेढ़ माह पूर्व ही वह फेरी के लिए सिसई आया था।दीपावली व छठ के त्योहार मनाने के लिए चार नवंबर को वापस घर आने की बात कही थी।वहीं, दूसरे मृतक के पिता गजेंद्र साह के अनुसार, उनका बेटा ही घर का एक मात्र कमाने वाला था.उसके तीन बच्चे है। पत्नी ननकी देवी प्रेग्नेंट है।