परमान नदी में पुल निर्माण का कार्य पूरा नहीं होने से पिपरा पं० के ग्रामीणों में रोष!

अररिया(रंजीत ठाकुर): अररिया जिले के फारबिसगंज प्रखंड क्षेत्र के पिपरा पंचायत अंतर्गत परमान नदी पर 5,57,69,389/5 करोड़ 57 लाख 69हजार 389 रुपए की लागत से बनने वाले पुल का निर्माण कार्य पूरा नहीं होने से ग्रामीणों में रोष देखा जा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि पिपरा सहित कई पंचायतों तथा फारबिसगंज प्रखंड को जोड़ने वाले इस पुल को 2019 में ही बनकर पूरा हो जाना चाहिए था परंतु ठेकेदार तथा पदाधिकारियों की लापरवाही के कारण यह पुल अधूरा बना पड़ा है और लोग आज भी नाव के सहारे ही नदी पार करने को मजबूर हैं। योजना का बोर्ड के अनुसार प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना अंतर्गत बिशनपुर पिपरा पथ पर परमान नदी पर आरसीसी पुल का निर्माण किया जाना है। इस पुल की लंबाई 116.16 मीटर है। एप्रोच पथ की लंबाई करीब 400 मीटर है। पुल के कार्य प्रारंभ होने की तिथि 11/ 8/ 2018 तथा कार्य पूर्ण होने की तिथि 10/8/2019 हैं। इसके संवेदक शिव दुर्गा कंस्ट्रक्शन एंड इंजीनियरिंग प्राइवेट लिमिटेड है, तो वही कार्यकारी एजेंसी कार्यपालक अभियंता ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल फारबिसगंज हैं.

इस बाबत पिपरा कामत टोला, वार्ड संख्या 10 निवासी जितेंद्र कुमार मंडल बताते हैं की ठेकेदार एवं विभागीय लापरवाही के कारण यह पुल आज तक अधूरा है जिस पुल को 2019 में ही बनकर तैयार हो जाना चाहिए था वह 2020 में भी नहीं बन पाया है और लोग नाव के सहारे नदी पार करने को मजबूर हैं। वहीं 2017 में आई बाढ़ ने नदी दक्षिण किनारे बने तटबंध को ध्वस्त कर दिया जिस कारण नदी किनारे की सैकड़ों एकड़ जमीन में आज कोई उपज नहीं हो पा रही है। उस समय के तत्कालीन डीएम, प्रखंड विकास पदाधिकारी फारबिसगंज अंचल पदाधिकारी फारबिसगंज, अनुमंडल पदाधिकारी फारबिसगंज, विधायक मंचन केसरी फारबिसगंज आदि ने आकर निरीक्षण कर तटबंध बनाने की बात कही थी परंतु अब तक स्थिति जस की तस है. वहीं पिछले 20 सालों से जंगी लाल मंडल वार्ड सदस्य रह रहे, उन्होंने बताया कि हम लोग अभी भी 50 वर्ष पीछे का जीवन जी रहे हैं। कोई भी प्रतिनिधि या पदाधिकारी हम लोगों की समस्या पर ध्यान नहीं दे रहे हैं ऐसे में आने वाले विधानसभा चुनाव में पुल और बांध का निर्माण नहीं होता है तो हम लोग वोट का बहिष्कार करेंगे।
वहीं स्थानीय ग्रामीण मोहम्मद जलाल ने बताया कि जब बाढ़ आती है तो इसका पानी गड़हा, अमहरा, समौल, खमखोल यहां तक कि अररिया भी इससे प्रभावित होता है। अगर अभिलंब पुल तथा तटबंध का निर्माण नहीं किया गया या इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया गया तो इस बार हम सभी ग्रामवासी आगामी चुनाव में मतदान नहीं करेंगे. इस संबंध में ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता “अरबिंद चौधरी” फारबिसगंज ने बताया की एक और स्पेन की मांग विभाग से किया गया विभागीय अनुमति मिलने के वाद ही एप्रोच का निर्माण किया जायेगा।