पचास हजार का इनामी कुख्यात अपराधी रमेश हेंब्रम कोलकाता से गिरफ्तार!

जमुई(मो० अंजुम आलम): 50 हजार का इनामी कुख्यात अपराधी रमेश हेंब्रम शुक्रवार को कोलकाता बस स्टॉप से गिरफ्तार कर लिया गया। रमेश का नक्सली संगठन से जुड़े रहने का भी इतिहास रहा है। उसकी तलाश बिहार और झारखंड के दो दर्जन मामलों में पुलिस को थी। इसकी गिरफ्तारी से जमुई, गिरीडीह और देवघर की पुलिस ने राहत की सांस ली है। उसकी गिरफ्तारी की खबर से जिले के कई नेताओं की नींद उड़ गई है। यह कामयाबी एसटीएफ और जिला पुलिस की संयुक्त टीम को मिली है। पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार मंडल ने बताया कि रमेश जिले के वांछित टॉप टेन अपराधियों में शीर्ष पर था और इसकी गिरफ्तारी से अंतरराज्यीय लूट, डकैती, अपहरण, रंगदारी और हत्या जैसी वारदात पर लगाम कसने में सफलता मिलेगी। इसके पहले रमेश हेंब्रम तीन जून 2015 को सेंध काटकर कोर्ट हाजत से फरार हो गया था। जेल प्रवास के दौरान जेल से भी फरार होने की कोशिश की थी। रमेश हेंब्रम की भूमिका मलयपुर में व्यवसायी के घर बड़ी लूट में भी सामने आई थी। हाल ही में चंद्रमंडी थाना क्षेत्र अंतर्गत चिमनी भट्ठा पर हमला कर मजदूरों को अगवा करने तथा लेवी वसूलने के मामले में भी इसका नाम सुर्खियों में रहा है। लोजपा जिलाध्यक्ष रूबेन कुमार के इस्तीफे से रिक्त बरहट प्रखंड प्रमुख पद पर पत्नी उर्मिला को विराजमान करने में भी रमेश को एक साल पूर्व ही कामयाबी मिली थी। प्रमुख पद का ताज मिलने से चंद दिनों पहले ही जेल से जमानत पर रमेश रिहा हुआ था। पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि इसकी गिरफ्तारी से पुलिस का मनोबल बढ़ा है तथा आम लोगों का भी पुलिस के प्रति विश्वास जगा है। उन्होंने टीम में शामिल सभी अधिकारियों व जवानों को पुरस्कृत किए जाने की भी बात कही है.

रमेश की गिरफ्तारी से उड़ी नेताओं की नींद-

कुख्यात रमेश हेंब्रम के ताल्लुकात जिले के कई नेताओं से जग जाहिर हैं। पुलिस सूत्रों की माने तो प्रारंभिक जांच में उसके मोबाइल से एसएमएस और कॉल के कुछ प्रमाण भी मिले हैं। अब पुलिस सीडीआर खंगाल सफेदपोश संरक्षक एवं सहयोगियों के गिरेबान तक पहुंचने का संकेत दे रही है। पुलिस अधीक्षक ने भी कहा है कि ऐसे तत्वों को बेनकाब किया जाएगा, जिसका संरक्षण आपराधिक व नक्सल गतिविधियों में शामिल लोगों को मिलता रहा है.

इन घटनाओं में रमेश हेम्ब्रम की थी संलिप्तता-

-18 दिसम्बर 2015 को चंद्रमंडीह थाना क्षेत्र अंतर्गत डढ़वा पंचायत के मंझली गांव में नक्सली विवेका यादव को बम मारकर हत्या कर दिया था।
-30 नवम्बर 2011 को चंद्रमंडीह थाना क्षेत्र अंतर्गत नावाडीह सिल्फ़री गांव स्थित पंकज साह के चिमनी भट्टा पर गोली मारकर भट्ठा मुंसी अशोक सिंह,पिता-हरि सिंह को गोली मारकर हत्या करने का प्रयास किया था।
-21 अक्टूबर 2018 को चंद्रमंडीह थाना क्षेत्र अंतर्गत डढ़वा पंचायत के जमहा गांव में कुख्यात अपराधी कांग्रेस यादव,पिता-बुधन यादव की बम मारकर हत्या कर दिया था।
-9 जनवरी 2019 को चंद्रमंडीह थाना क्षेत्र अंतर्गत माधोपुर पंचायत के घरबारन स्थित प्रमोद राय उर्फ टुनटुन राय,ग्राम-धमनियां निवासी के रूपा चिमनी ईंट भट्ठा से तीन मजदूर का अपहरण में शामिल था।
–28 फरवरी 2019 को चंद्रमंडीह थाना क्षेत्र अंतर्गत कल्याणपुर पंचायत के जोगबारन जंगल में कुख्यात अपराधी टेंटुआ टुडु उर्फ रमेश टुडु के साथ गिरफ्तार रमेश हेम्ब्रम उर्फ बादल पुलिस के साथ मुठभेड़ में था शामिल
–24 मई 2019 चंद्रमंडीह थाना क्षेत्र अंतर्गत डढ़वा पंचायत के बसहरा गांव में पुलिस एवं अपराधियों के साथ मारे गए नक्सली सिद्धू कोड़ा एवं फरार टेंटुआ टुडु उर्फ रमेश टुडु के साथ गिरफ्तार अपराधी रमेश हेम्ब्रम था शामिल।