नारायणपुर गांव के एक मजदूर की गोली मारकर हत्या!

कटिहार(राहिल खान): आजमनगर प्रखंड के गोरखपुर पंचायत के कर दी औरंगाबाद गोह थाना क्षेत्र के अंकुरी गांव स्थित पुल निर्माण कंपनी के कैंप में सोमवार की रात 9:00 बजे के करीब 15 से 20 नकाबपोशी अपराधी हथियार से लैस होकर निर्माण कंपनी के क्षेत्र में पहुंचे और वहां रहे तमाम मजदूरों को बंधक बना लिया और मजदूरों की पिटाई शुरू कर दी इसी बीच ठेकेदार शिवनारायण यादव ने मजदूरों को छुड़ाने के लिए अपराधियों से आग्रह किया लेकिन अपराधियों ने एक नहीं सुनी और ठेकेदार को सीने में बंदूक सटाकर गोली मार दी इसके बाद से सारे मजदूर पूरी तरह से दहशत में आ गए और अपराधियों ने मजदूरों का मोबाइल में रुपए लूट लिया फिर खराब हो गए इधर घटना की सूचना मिलते ही दाउदनगर एसडीपीओ राजकुमार तिवारी गोह थाना अध्यक्ष मनोज कुमार के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और घटना की छानबीन करते हुए मृतक ठेकेदार के शव को पोस्टमार्टम के लिए औरंगाबाद भेजा गया एसडीपीओ ने बताया कि घटना किन वजहों से है किन लोगों ने अंजाम दिया है इसकी जांच की जा रही है उधर थाना अध्यक्ष मनोज कुमार ने बताया कि अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस कार्रवाई कर रही है फिलहाल संदेह के आधार पर 4 लोगों को हिरासत में ले लिया गया है इसमें मुंशी लव कुश कुमार राजू कुमार सुदर्शन प्रजापति नरेश पासवान शामिल है इधर घटना के बाद नक्सली घटना की भी चर्चा आ रही है हालांकि पुलिस ने नक्सली घटना होने से साफ तौर पर इंकार किया है निर्माण कंपनी के ठेकेदार को पर्चा देकर मांगी गई थी लेवी पुलिस कार्रवाई तो रूक सकती थी घटनाएं अंकुरी गांव में एक करोड़ चार लाख की लागत से बिलारू नाला पर पुल का निर्माण किया जा रहा था इस कार्य में कटिहार जिला के अधिकांश मजदूर को लगाया गया था पता चला कि बैजनाथ निर्माण कंस्ट्रक्शन कंपनी के ठेकेदार बबलू शर्मा को 7 सितंबर 2019 को लेवी का पर्ची थमाया गया था जिसने कि उससे पैसे की मांग की गई थी बबलू शर्मा ने बताया कि पर्चा मिलने के बाद गोह के तत्कालीन थानाध्यक्ष के वेंकटेश्रर ओझा को मामले से अवगत कराया गया था उस वक्त उन्होंने नक्सली पर्चा नहीं होने की बात कही थी जिसके बाद हमलोगों निश्चिंत होकर कार्य करवा रहे थे जहां सवाल यह उठता है कि उस वक्त ठेकेदार की बात को पुलिस गंभीरता से लेती तो घटना को रोका जा सकता था वहीं मृतक के भाई कृष्णा कुमार यादव ने बताया कि निर्माण कंपनी के कैंप में जब मजदूरों को अपराधियों ने बंधक बना लिया उस वक्त मित्र शिवनारायण यादव ने अपराधियों से हाथ और पांव पर सभी को बख्श ने की विनती की लेकिन अपराधियों ने उसकी एक नहीं सुनी यह कहते हुए मृतक का भाई कृष्णा कुमार यादव बिलक भरा और कृष्णा ने बताया कि मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण कर रहे हैं इधर आज जैसे ही लाश निवास स्थान पर पहुंचे नारायणपुर गांव में मातम सा छा गया है इधर मृतक शिवनारायण यादव के पत्नी उषा देवी पूजा कुमारी 10 वर्ष माधुरी कुमारी 8 वर्ष और आशीष कुमार 5 वर्ष अभी यह तीनों बच्चे नाबालिक है और छोटे छोटे हैं इसका भरण पोषण के लिए अब इनका कोई सहारा नहीं है शिवनारायण के बूढ़ा बाप बिलख बिलख के रो रहे हैं और पूरा परिवार का रो रो कर कर बुरा हाल है।