नर्स के परिवार के चार लोगों को कोरोना जांच के लिए पटना लाया गया

फुलवारीशरीफ(अजित यादव): संपतचक के बैरिया वासियों में कोरोना के संदिग्धों की जांच को लेकर पहुंची विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम को देख हडकंप मचा रहा | डब्ल्यू एच ओ की टीम ने बाईपास में स्थित शरणम हॉस्पिटल के एक महिला कर्मचारी के मायके वालों को जांच के लिए पटना ले गयी वहीँ आस पास के घरों में परचा चस्पा कर घरों में ही होम क्वारंटाईन में रहने की सख्त हिदायत दी गयी है | वहीँ इलाके में लोगों में इस बात को लेकर भी भय हो गया की जिस परिवार की महिला शरणम हॉस्पिटल में मुंगेर के युवक के इलाज में शामिल थी उसके परिवार के लोग ही दूकान चलाते हैं | इस दुकान से समान खरीदने वालों में भी भय का माहौल हो गया है. बीडीओ उषा कुमारी ने बताया की शरणम हॉस्पिटल में नर्स का काम करने वाली महिला का मायका बैरिया में हैं विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम ने जांच की और ग्रामीणों को जागरूकता के लिए कई निर्देश दिए हैं | नर्स के परिवार के चार लोगों को पटना में जांच के लिए ले जाया गया है वहीँ आस पास के घरों के लोगों को होम क्वारंटाईन में रहने की हिदायत दी गयी है | बैरिया से तीन किलोमीटर के दायरे में लोगों की जांच करने की भी बात हो रही है | बता दें की मुंगेर के जिस युवक की मौत पटना एम्स में कोरोना से हुई थी उसका इलाज एम्स से पहले बाईपास के शरणम हॉस्पिटल में कराई गयी गयी थी | इस दौरान ही इस हॉस्पिटल के एक स्टाफ और एक नर्स को कोरोना होने का मामला सामने आया है | उसके बाद नर्स के परिवार के लोगों का एहतियातन जांच कराया जा रहा है | वहीँ आस पास के तिन किलो मीटर के दायरे में रहने वाले डब्ल्यू एच ओ की टीम के रडार पर आ गये हैं | इन लोगों की स्क्रीनिंग भी कराई जा सकती है |फुलवारी शरीफ | पटना एम्स में रवीवार को कोरोना को लेकर 55 लोगो की स्क्रीनिंग हुई है | वहीँ आइसोलेशन वार्ड में भर्ती चार लोगों को कोरोना होने का संदिग्ध श्रेणी में रखा गया है | रविवार को एक भी मरीज का रिपोर्ट पॉजिटिव नही आया है | वहीँ पांच लोगों का रिपोर्ट निगेटिव बताया गया है | आइसोलेशन वार्ड में भर्ती पांच मरीजो को डिस्चार्ज भी कर दिया गया जबकि नौ लोग आइसोलेशन वार्ड में भर्ती बताये जा रहे हैं | इसकी जानकारी कोरोना के नोडल आफिसर डॉ नीरज अग्रवाल के हवाले से दिय गया है | वहीँ एम्स के कोरोना बुलेटिन में बताया गया है की आइसोलेशन वार्ड में भर्ती एक मरीज की मौत हो गयी है लेकिन उसकी रिपोर्ट अभी नही है | जिस मरीज की मौत हुई है उसकी रिपोर्ट आरएमआरआई से आने के बाद ही स्पष्ट हो पायेगा की उसकी मौत कोरोना से हुई है या दूसरे रोगों के चलते हुई है |