नरेन्द्र मोदी और नीतीश कुमार की बातें विरोधाभास से भरी हुई : पप्पू यादव

पटना(अजित यादव): नीतीश कुमार ने एक समय भाजपा से गठबंधन तोड़ने के बाद कहा था कि मिट्टी में मिल जायेंगे लेकिन भाजपा और आरएसएस से हाथ नहीं मिलाएंगे. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर कहा था कि बिहार में कोरोना वायरस महामारी से लड़ने की पर्याप्त व्यवस्था नहीं की गई है. अब मोदी जी नीतीश कुमार की तारीफ़ कर रहे है. मोदी जी की कौन सी बात मानी जाए? ये स्पष्ट कर दें. उक्त बातें जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने अपने पार्टी कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कही. राज्य सभा के उप सभापति हरिवंश सिंह के बारे में पप्पू यादव ने कहा कि हरिवंश जी का नाम काले अध्याय में लिखा जाएगा. उन्होंने किसानों के मुद्दे को दबा दिया.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए जाप अध्यक्ष ने कहा कि इंडियन करप्शन सर्वे के अनुसार बिहार की आधी आबादी ने कम से कम दो बार रिश्वत दी है. पिछले 15 साल में बिहार को अपराध और भ्रष्टाचार में नंबर 1 बना दिया है. सबसे ज्यादा अपराध बिहार में होता है. पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा था था कि कश्मीर से ज्यादा स्थिति ख़राब बिहार की है. 42% बच्चे प्राथमिक शिक्षा और 36% बच्चे माध्यमिक शिक्षा पूरा करने से पहले ही ड्राप आउट हो जाते हैं. नरेन्द्र मोदी किस आधार पर नीतीश कुमार की तारीफ़ कर रहे हैं. नीति आयोग के अलग-अलग रिपोर्ट का जिक्र करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि इंक्रीमेंटल परफॉरमेंस इंडेक्स में बिहार अंतिम स्थान पर है. एसडीजी इंडिया इंडेक्स में 27 बड़े राज्यों में हमारा सबसे निचले पायदान पर है. गरीबी में देश में 26वें और भूख में 25वें स्थान पर है.

पप्पू यादव ने आगे कहा कि गंगा पे बनने वाले पुल का शिलान्यास तीन बार किया गया है. सबसे पहले मधेपुरा में नितिन गडकरी ने फिर खुद नरेन्द्र मोदी ने पिछले वर्ष बाढ़ से किया था और इस बार फिर किया. ये चुनाव के समय जनता को धोखा दे रहे हैं. प्रधानमंत्री स्मार्ट सिटी, आदर्श ग्राम योजना, उत्तर बिहार में बाढ़, नमामि गंगे मिशन, पलायन, प्रदूषण, 1,60,000 करोड़ रुपए के पैकेज, पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने, मगध में पीने के पानी, विशेष राज्य, जीएसटी के बकाए पैसा पर क्यों नहीं बोलते?


एक निजी अखबार के सर्वे का जिक्र करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि नीतीश कुमार की लोकप्रियता घटी है. नीतीश कुमार वोट के लिए को सुशांत सिंह राजपूत का सहारा ले रहे हैं. 27 सितम्बर को प्रस्तावित जाप के बंद के बारे में पप्पू यादव ने कहा कि अब बंद 25 को बंद करेंगे क्योंकि 27 को परीक्षा है. इसलिए छात्रों के हितों को देखते हुए हमने यह फैसला लिया है. 24 सितम्बर को जाप अध्यक्ष पप्पू यादव पार्टी का प्रतिज्ञा पत्र जारी करेंगे. इसके लिए उन्होंने प्रचार रथ को झंडी दिखाकर रवाना किया. इस मौके पर राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एज़ाज अहमद, राष्ट्रीय महासचिव राजेश रंजन पप्पू और अवधेश लालू उपस्थित थे।