दो अक्टूबर से शुरू होगा बहुउद्देश्यीय गंगा यात्रा कार्यक्रम

बलिया(संजय कुमार तिवारी): जिले स्तर पर गंगा यात्रा का एक बहुउद्देश्यीय कार्यक्रम 2 अक्टूबर से शुरू होगा। कोरंटाडीह से शुरू होने वाली इस तीन दिन की यात्रा का समापन जयप्रकाश नारायण ट्रस्ट पर होगा। इसमें वन विभाग, जल निगम, बाढ़ खण्ड व गंगा से जुड़े अधिकारी रहेंगे। इस भ्रमण के दौरान किनारे के गांवों में अल्प विश्राम भी होगा। नेहरू युवा केन्द्र, स्कॉउट गाईड, एनसीसी के कैडेट भी रहेंगे, जो आवश्यकतानुसार जागरूकता कार्यक्रम करते रहेंगे। बैठक में गंगा समिति के सदस्यों के साथ कार्यक्रम की उपयोगिता बढ़ाने पर चर्चा हुई.

जिलाधिकारी श्री शाही ने जल निगम के अभियंता को निर्देश दिया कि भ्रमण के दौरान जगह-जगह गंगा के पानी का सैंपल भी लेना है। जहां पर नाले गिरते हैं विशेष तौर पर वहां के सैंपल अवश्य लिए जाएं। बाढ़ इलाकों व जरूरतमंद इलाकों में नए तटबंधों के लिए भी सर्वे का कार्य होगा। पंचायती राज विभाग द्वारा किनारे के गांवों में कार्यक्रम आयोजित होगा जिसमें सरकार के विभिन्न कल्याणकारी व लाभकारी योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। स्वास्थ्य शिविर का भी आयोजन होगा. उन्होंने बताया कि गंगा किनारे की 41 ग्राम पंचायतों में 6 ग्राम पंचायत में भ्रमण कर विकास व गंगा संरक्षण से जुड़े कार्य का निरीक्षण होगा।

स्वच्छता व पॉलीथिन के खिलाफ जनजागरूकता पर रहेगा फोकस-

सीडीओ विपिन जैन ने कहा कि गंगा यात्रा के दौरान पूरा फोकस पॉलीथिन का प्रयोग नहीं करने व स्वच्छता से सम्बंधित जनजागरूकता पर होगा। नेहरू युवा केन्द्र के माध्यम से नुक्कड़ नाटक या रैली के जरिए यह जागरूकता फैलाई जाएगी। उन्होंने जरूरी तैयारी करने के लिए किनारे के गांवों के सम्बंधित सभी एडीओ पंचायत को निर्देशित किया। बैठक में डीएफओ श्रद्धा, एडीएम रामआसरे, एसडीएम सदर राजेश यादव, डीआईओएस भास्कर मिश्र के अलावा भौगोलिक जानकार गणेश पाठक व गंगा समिति के सदस्य मौजूद थे.

उर्वरक की उपलब्धता व मूल्य की समीक्षा-

बलिया: जिलाधिकारी एसपी शाही ने कृषि उर्वरक की उपलब्धता एवं उसके निर्धारित मूल्य की बिक्री की समीक्षा की। उन्होंने निर्धारित मूल्य पर पीओएस मशीन से विक्री और क्यूआर कोड से भुगतान की व्यवस्था के सम्बंध में विशेष निर्देश दिए। बैठक में बताया गया कि उर्वरक की पर्याप्त उपलब्धता है। बैठक के उर्वरक कम्पनियों के प्रतिनिधियों से जिलाधिकारी ने उनसे भी मूल्य आदि के बाबत जानकारी ली। कहा कि जिले में उर्वरक कंपनियों द्वारा जो भी उर्वरक उपलब्ध कराया जाए रे एक लगने के 24 घंटे के अंदर इसकी सूचना थोक विक्रेताओं व जिला कृषि अधिकारी को उपलब्ध करा दिया जाए। रिटेलर को देते समय पक्की रसीद जरूर लें। ध्यान रहे रिटेलर द्वारा पीओएस मशीन से ही विक्री सुनिश्चित की जाए। जिलाधिकारी ने इस पर भी जोर दिया कि समस्त उर्वरक व्यवसायियों के पास क्यूआर कोड की उपलब्धता हो, ताकि कैशलेस भुगतान भी किसान कर सकें। जिला कृषि अधिकारी को इसके लिए दिशा निर्देश दिए। प्रति बैग रेट के बारे में बताया गया कि यूरिया 266.50 रुपया, डीएपी इफको 1150 रु, डीएपी आईपीएल, डीएपी पीपीएल व डीएपी एनएफएल 1200 रु, एमओपी व एनपीकेएस 950 रु प्रति बैग निर्धारित है.

मिलावटखोरी पर हो सख्त कार्रवाई : डीएम

जिलाधिकारी श्रीहरि प्रताप शाही की अध्यक्षता में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग की जिला सतर्कता समिति की बैठक हुई, जिसमें विभागीय कार्यों की समीक्षा की गई। समिति के सदस्यों ने जोर देकर यह आवाह्न किया कि खाद्य पदार्थों की मिलावटखोरी में हानिकारक पदार्थों को मिलाने वालों का नाम प्रकाशित करने की पहल हो, ताकि उनमें भय पैदा हो। इससे पहले अभिहित अधिकारी महेन्द्र श्रीवास्तव ने पिछले व वित्तीय वर्ष में किये गये कार्यों की प्रगति से अवगत कराया। जिलाधिकारी ने कहा कि मिलावटखोरी के खिलाफ अभियान हमेशा चलता रहे। इसमें जो भी पकड़े जाएं और उनके सैम्पल गलत मिल जाए तो उन पर सख्ती से करवाई हो. विभाग के मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी दीपक श्रीवास्तव ने बताया कि कृष्णा ब्राण्ड कुरूक्षेत्र हरियाणा द्वारा निर्मित दूध या दूध का पाउडर में हानिकारक अपमिश्रक मिलाया गया था, जो मानव स्वास्थ्य के लिये बेहद हानिकारक होता है। इसी प्रकार अन्य नमूनों के बारे में भी विस्तार से बताया। औषधि व्यापार प्रतिनिधि आन्नद सिंह ने ड्रग लाइसेंस में आ रही दिक्कतों का बारे में बताया, जिसे दूर कराने के निर्देश दिए। समिति के सदस्य मौजूद थे।