ग्रामीणों ने मुखिया पर लगाए कई गंभीर आरोप!

अररिया(रंजीत ठाकुर): अररिया जिले के फारबिसगंज प्रखंड के पिपरा पंचायत के ग्रामीणों ने मुखिया दीपचंद साह पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. ग्रामीणों का कहना है कि मुखिया द्वारा पंचायत में अबतक अधिकांश सरकारी योजना शुरू भी नहीं की गई है और यदि कोई योजना शुरू भी की गई तो इससे मुखिया के चहेते लोगों को ही लाभ पहुंचाने का काम किया गया।यहां तक कि रोजगार गारंटी योजना के अंतर्गत पंचायत के मनरेगा मजदूरों को भी कोई काम नहीं दिया गया। बड़ी संख्या में उपस्थित ग्रामीणों ने बताया कि हमलोगों ने कई बार इन बातों को लेकर शिकायत की,परन्तु इससे मुखिया को कोई फर्क नहीं पड़ा।
ग्रामीण मनोज कुमार साह ने बताया कि पंचायत में कोई विकास का कार्य नहीं किया जा रहा है इसी को लेकर आज हम सब ग्रामवासी यहां इकट्ठे हुए हैं।उन्होंने बताया कि यदि किसी योजना का लाभ लेना है तो मुखिया को कमीशन देना पड़ता है. ग्रामीण जनार्दन मंडल बताते हैं मुखिया दीपचंद मंडल के कार्यकाल में अब तक मनरेगा मजदूरों को कोई काम नहीं मिला और नहीं इसके बदले में कोई राशि।
वही पंचायत के लोगों ने कहा कि यदि योजनाओं की सही से जांच हो तो पूरे घालमेल का पता चल जाएगा। ग्रामीणों ने कहा कि कुछ दिन पहले मुखिया दीपचंद साह का भतीजा मुकेश कुमार साह गांजे की तस्करी में संलिप्त था जिसे एसएसबी जवानों ने बड़ी मुश्किल से धर दबोचा और उसे जेल भेज दिया गया। एसएसबी के कुशमाहा बीओपी के इंस्पेक्टर राजकुमार पर मुखिया द्वारा भतीजे को छुड़ाने हेतु काफी कोशिश की गई,परंतु उसे नहीं छोड़ा गया और जेल भेज दिया गया। जिसके चलते मुखिया बेवजह एक ईमानदार पदाधिकारी को बेईमान बताने पर तुले हैं। एसएसबी जवानों की हमेशा ड्यूटी रहती है और तस्करों पर काफी हद तक लगाम लगाया गया है. इस मौके पर मनोज साह, गणेश सादा, राजकिशोर मंडल, मनिक मंडल, कार्तिक मंडल,जनार्दन मंडल,मोहम्मद कासिम, रमेश साह ,ब्रह्मदेव गिरी, प्रमोद यादव, टुनटुन झा, अनंत लाल मंडल,विपिन मंडल, दयानंद मंडल आदि सैकड़ों ग्रामीण उपस्थित थे।