कोरोना काल में मच्छर जनित रोगों से रहें सतर्क, करें बचाव

बलिया(संजय कुमार तिवारी): कोविड-19 से लड़ रहा स्वास्थ्य विभाग, अब मच्छर जनित बीमारियों जैसे डेंगू और मलेरिया से बचाव के प्रति भी सतर्क हो गया है। बारिश में मच्छरों का प्रकोप तेजी से बढ़ जाता है। इसके कारण कई वेक्टर जनित जानलेवा बीमारियों के फैलने का खतरा बन जाता है। इन बीमारियों से बचने के लिए जागरूकता एवं सतर्कता ही एक बेहतर उपाय है. कार्यवाहक जिला मलेरिया अधिकारी डॉ नीलोत्पल कुमार ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने अपने स्तर पर जनपद में मलेरिया, डेंगू व मच्छर जनित अन्य बीमारियों को रोकने के लिए जन जागरूकता का कार्य शुरू किया है। जन जागरूकता के माध्यम से ही खुद व अपने परिवार को सुरक्षित रखा जा सकता है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति के सदस्य जन समुदाय में जन जागरूकता का कार्य कर रहे हैं। वहीं आशा कार्यकर्ताओं के माध्यम से घर-घर जाकर जन जागरूकता के माध्यम से बदलते मौसम और मच्छरों से बचाव और साफ – सफाई के बारे में जानकारी दी जा रही है.

डॉ० नीलोत्पल ने बताया कि शहरी क्षेत्र के लिए गठित की गयी नगरपालिका की टीमें वार्ड और मोहल्लों में जाकर जनजागरूकता के साथ ही फागिग और एंटी लार्वा के छिड़काव का कार्य कर रही हैं जिससे डेंगू और मलेरिया जैसी घातक बीमारियों को फैलने से रोका जा सके। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के चलते लोगों का ध्यान अन्य बीमारियों को लेकर उतना नहीं है जितना होना चाहिए। इन बीमारियों से बचने के लिए मच्छरों से बचाव करना बहुत जरूरी है। इसके लिए अपने घर के आसपास जल भराव न होने दें। झाड़ियों और नालियों को साफ सुथरा रखें, आसपास रुके हुए पानी में जला हुआ मोबिल आयल या मिट्टी का तेल डालकर लार्वा को नष्ट करें, घर के दरवाजे और खिड़की पर मच्छर रोधक जाली लगायें और सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग अवश्य करें, पूरी आस्तीन के कपडे पहनें, कूलर, फ्रिज में जमा पानी को साप्ताहिक रूप से साफ करें, अपने घर की छत पर टूटे फूटे बर्तन, पाइप टायर आदि न डालें, गमलों और फूलदानों को भी साफ स्वच्छ रखें.

डॉ० नीलोत्पल ने बताया कि आम लोग यह नहीं समझ पाते हैं कि उन्हें मलेरिया हुआ है या डेंगू या सामान्य बुखार है। मलेरिया का बुखार ठंड देकर आता है तो डेंगू में लगातार बुखार रहता है। इस तरह के कोई भी लक्षण होने पर तुरंत नजदीकी प्राथमिक या सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर चिकित्सक से परामर्श लेकर मलेरिया और डेंगू की जाँच करानी चाहिए। जनपद के सभी प्राथमिक या सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर मलेरिया और डेंगू की जाँच नि:शुल्क की जाती है। उन्होने बताया कि इस बार कोरोना के चलते विभाग पूरी मुस्तैदी से कार्य कर रहा है। लगातार एंटीलार्वा का छिड़काव नगर पालिका द्वारा शहर में तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा केस मिलने पर ग्रामीण क्षेत्रों में छिड़काव कराया जा रहा है। उन्होने बताया कि यदि किसी को अपने गाँव या मोहल्ले में फोगिंग करवानी हो तो वह जिला मलेरिया अधिकारी कार्यालय में संपर्क का सकता है।