कृषि कानून पर विपक्ष को जवाब देने के लिए बीजेपी चलाएगी अभियान

नई दिल्ली(न्यूज़ क्राइम24): कृषि कानून के खिलाफ केंद्र सरकार पर संयुक्त विपक्षी पार्टियां निशाना साध रही हैं। यहां तक की एनडीए की सहयोगी पार्टी शिरोमणी अकाली दल ने तो गठबंधन भी तोड़ लिया है। इस बीच बीजेपी भी विपक्ष के आरोपों पर करारा जवाब देने के लिए तैयारियों में जुट गई है, जिसमें ग्रामीण भारत में डोर-टू-डोर आत्मनिर्भर किसान अभियान शामिल होंगे और जनता रैलियां, प्रेस कॉन्फ्रेंस और सोशल मीडिया प्रसारण भी होगा। पहल का उद्देश्य है कि बीजेपी को लगता है कि विपक्ष का प्रचार नरेंद्र मोदी सरकार के कृषि सुधारों को “झूठा और बेतुका” बताने पर आधारित है। जबकि कानून यह कहता है कि कृषि व्यापार को उदार बनाना होगा, किसानों को अपनी उपज कहीं भी बेचने और लाभ के लिए अधिक पारिश्रमिक मूल्य अर्जित करने में सक्षम बनाना होगा। बिचौलियों को छोड़कर उपभोक्ताओं को लाभ पहुंचाना होगा।

पार्टी के सांसदों और शीर्ष नेताओं को लिखे पत्र में, जिसकी एक प्रति एचटी द्वारा देखी गई है, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने कहा कि संसद द्वारा पारित ऐतिहासिक कृषि कानूनों ने किसानों को बिचौलियों के चंगुल से मुक्त कराया। सिंह ने कहा कि इन सुधारों से मृदा स्वास्थ्य कार्ड, फसल बीमा और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में बढ़ोतरी जैसे उपायों से किसानों की आय दोगुनी करने में मदद मिलेगी। सिंह ने पत्र में कहा, “विपक्षी दल इसके बारे में गलत और बेतुकी अफवाहें फैला रहे हैं। सिंह ने कहा कि एमएसपी, सरकारी खरीद और कृषि उपज बाजार समितियां (एपीएमसी) मौजूद रहेंगी, जबकि किसानों को व्यापक बाजार में पहुंच हासिल होगी। पार्टी प्रमुख जेपी नड्डा के निर्देश पर और किसानों की चिंताओं को दूर करने के लिए, भाजपा ने नए कानून पर जन जागरूकता कार्यक्रम की योजना बनाई है, जिसे कोरोना बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए स्वास्थ्य प्रोटोकॉल के अनुरूप लागू किया जाएगा।