कुकर्मी को जेल से रिमांड पर ले गई पुलिस!

धनबाद(न्यूज़ क्राइम24): बीसीसीएल के सेवानिवृत्त डीटी की बेटी से दुष्कर्म का आरोपी बादल गाैतम का रिमांड बैंक मोड़ थाने की पुलिस ने हासिल कर लिया है। मंगलवार को पुलिस धनबाद जेल पहुंची। धनबाद कोर्ट से प्राप्त रिमांड संबंधी कागजात जेल प्रशासन के समक्ष प्रस्तुत किया। इसके बाद जेल प्रशासन ने बादल गाैतम को पुलिस के हवाले कर दिया। थाने में रखकर बैंक मोड़ पुलिस बादल से पूछताछ कर रही है। पुलिस के फोकस पर पीड़िता का जेवरात है। अगर बादल मुंह खोलता है तो इस मामले में धनबाद के कई चर्चित लोग बेनकाब हो सकते हैं।

बीसीसीएल के सेवानिवृत्त डीटी की बेटी से दुष्कर्म करने के आरोप में जेल में बंद कोयला कारोबारी बादल गौतम को अदालत ने दो दिनों की पुलिस हिरासत में भेजने का आदेश धनबाद जेल प्रशासन को दिया है। कांड के अनुसंधानकर्ता ने बादल को पांच दिनों की पुलिस हिरासत में देने की प्रार्थना सोमवार को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी अर्जुन साव की अदालत से की थी। कहा था कि पीडि़ता के आभूषण एवं रुपये की बरामदगी और इस मामले में अन्य संलिप्त लोगों के जानकारी के लिए पूछताछ जरूरी है। इस मांग का बचाव पक्ष के अधिवक्ता शाहनवाज ने विरोध किया। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद अदालत ने आदेश दिया कि बादल गौतम को दो दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा जाय।

बादल दो माह से फरार था। पुलिस उसकी तलाश में दिन रात एक कर रही है। काफी मशक्कत के बाद पुलिस को सुराग मिला। उसे 21 नवंबर को पंडित दीन दयाल जंक्शन नगर (मुगलसराय) की रेल पुलिस ने धनबाद पुलिस से मिली सुचना के बाद पकड़ा। उस दौरान वह डाउन सिकंदराबाद-दानापुर कोविड स्पेशल ट्रेन में सफर कर रहा था। पुलिस के बड़े अधिकारियों और बड़े राजनेताओं के बीच पैठ रखने वाले बादल के खिलाफ पीडि़ता ने 21 सितंबर को धनबाद के बैंक मोड़ थाने में दुष्कर्म की प्राथमिकी दर्ज कराई थी।घर से लाखों का जेवरात लेकर भागी थीं पीड़िता

बादल गाैतम पर दुष्कर्म की प्राथमिकी का आरोप लगाने वाली पीड़िता अपने पति को छोड़ प्रेमी संकेत कृष्णानी के साथ कोलकाता से धनबाद पहुंची। संकेत के साथ उसका दोस्त बादल भी था। पीड़िता के पास लाखों रुपये के जेवरात थे। बादल ने मदद का भरोसा देकर जेवरात हासिल किया। इसके बाद जेवरात को ठिकाने लगा दिया। धनबाद के एक चर्चित ज्वेलरी दुकान में जेवरात बेचे जाने की बात कही जा रही है। हालांकि पुलिस के पास इसका कोई सबूत नहीं है। इस मामले का खुलासा करने के लिए ही पुलिस ने बादल को रिमांड पर लिया है।