किसान विरोधी काला बिल पास कर लोकतंत्र का गला घोंट रही केंद्र सरकार : शमशाद आलम

जमुई(मो० अंजुम आलम): किसान संगठनों के बन्द को समर्थन देते हुए जन अधिकार पार्टी के जिलाध्यक्ष मु. शमशाद आलम के नेतृत्व में शुक्रवार को कार्यकर्ता सड़क पर उतर गए और शहर के कचहरी चौक को पूरी तरह जाम कर दिया। तकरीबन 8:30 बजे सुबह से शुरू हुई जाम 11 बजे तक रही। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने जमकर सरकार विरोधी नारे भी लगाए। प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं ने दूकानदार, वाहन चालक, ठेला-रिक्शा मज़दूर, सहित आने-जाने वाले लोगों से किसान और बिहार हित के लिए समर्थन देने की अपील की। इस अवसर पर शमशाद आलम ने कहा कि केंद्र की सरकार किसान मज़दूर विरोधी है। कृषि को अमीरों के हाथों में देने वाला काला कानून बनाया है। लोकतंत्र का गला घोंट कर कृषि को पूँजीपत्तियों के हाथों नीलाम कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों के लिए वैसी कानून बनाएं जिससे उनकी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम कीमत पर न बिके। सरकार के काला कानून वापस लेने तक जन अधिकार पार्टी चरणबद्ध आंदोलन करती रहेगी। इस कानून से गिने चुने लोग जो कि उनके करीबी हैं उन्हें लाभ पहुंचाने की मंशा है। इस काले कानून से किसान अपनी ही जमीन पर मजदूर बनकर रह जाएगा। डबल इंजन की हर मोर्चे पर विफल साबित हो रही है। बिहार में भ्र्ष्टाचार चरम सीमा पर है, माँ-बहन बेटी सुरक्षित नहीं है, युवा बेरोजगारी से परेशान हैं, किसान अपने फसल के कम कीमत को लेकर चिंतित हैं , मजदूर मजबूर हैं, महंगाई चरम सीमा पर है। वहीं जन अधिकार युवा परिसद जिलाध्यक्ष अविनाश प्रताप सिंह ने कहा कि देश अंग्रेज से भले आज़ाद हो गया है लेकिन मुल्क आज नेताओं का गुलाम है। इनकी तानाशाही को ध्वस्त करेंगे। बिहार की आजादी हमारी जिम्मेदारी है। आजादी तक हम लड़ाई लड़ेंगे और इस सरकार को उखाड़ फेंकने का कार्य करेंगे। इस मौके पर जाप के जिला उपाध्यक्ष अरविंद साव, अल्पसंख्यक अध्यक्ष सगीर अंसारी , पिछड़ा अध्यक्ष हरेराम मंडल, मुंशी लाल बौद्ध,अधिकलाल मंडल , रंजन यादव, सुदिन कुमार, कोका यादव, अजय,गौतम, अजित यादव, मीडिया प्रभारी अफ़रोज़, देवेंद्र रावत, रामाश्रय बिंद, आमिर, समिर, शैलेन्द्र यादव, कुणाल पासवान, दिनेश मोदी, कंचन सिंह सहित बड़ी संख्यां में कार्यकर्ता किसान-मजदूर मौजूद थे।