एसएनसीयू से गायब थे चिकित्सक, स्वजनों ने किया हंगामा!

जमुई(मो० अंजुम आलम): सदर अस्पताल में अवस्थित एसएनसीयू कक्ष में एक के बाद एक लापरवाही का मामला देखने को मिलता है। खास कर चिकित्सक के गायब रहने, सही ढंग से इलाज नहीं करने, इलाज में कोताही बरतने को लेकर कई बार स्वजनों द्वारा हंगामा किया गया है। स्वास्थ्य पदाधिकारियों को भी कई बार शिकायत की गई। इसके बावजूद एसएनसीयू के चिकित्सक की लापरवाही चरम पर बरकरार बनी हुई है और स्वास्थ्य पदाधिकारी भी बात बनाने में पीछे नहीं रहते हैं। एक बार फिर सोमवार को एसएनसीयू में चिकित्सक की लापरवाही का मामला सामने आया है। जहां एसएनसीयू में भर्ती 6 नवजात की जिम्मेदारी 12 घंटों से जीएनएम के कांधे पर है। इधर चिकित्सक के गायब रहने के विरोध में इलाज के लिए आए स्वजन शमशेर खान, सन्नी, दीपक कुमार पांडेय द्वारा हंगामा किया गया। इस दौरान चिकित्सक के गायब होने की सूचना कई बार सीएस, डीएस से लेकर अन्य पदाधिकारियों को दी गई लेकिन चिकित्सक गायब रहे।

12 घंटे के बाद भी नहीं पहुंचे चिकित्सक-

शहर के थाना चौक निवासी मु. शमशेर खान ने बताया कि वे अपने 15 दिन के पुत्र की तबियत बिगड़ने के बाद एसएनसीयू में रविवार की शाम भर्ती कराया था। उस वक़्त चिकित्सक इसके गुप्ता द्वारा इलाज किया गया। फिर सोमवार की सुबह 6 बजे देखा गया था। तकरीबन 12 बजे दिन में बच्चे की स्थिति नाजुक हो गई। उसके बाद जीएनएम द्वारा चिकित्सक को बुलाया गया लेकिन चिकित्सक नहीं आए। फिर इसकी सूचना डीएस को भी दी गई लेकिन 12 घंटे बीतने के बाद शाम 6 बजे तक भी चिकित्सक नहीं पहुंचे.

दवा लिखाने निजी क्लिनिक गए स्वजन को चिकित्सक ने भगाया-

स्वजनों ने बताया कि नवजात की हालत बिगड़ता देख इसके गुप्ता के क्लिनिक पर दवा के लिए पूछने गए तो चिकित्सक द्वारा डांट कर भगा दिया गया। और ड्यूटी नहीं होने की बात कही गई.

मेरी नहीं है ड्यूटी-

एसएनसीयू में कार्यरत जीएनएम और स्वजनों ने बताया कि चिकित्सक एसके गुप्ता द्वारा कहा गया कि डॉ निमिता रानी के जगह तीन दिन से ड्यूटी कर रहा हूँ इसलिए मेरी ड्यूटी नहीं है और मैं नहीं आऊंगा.

कोट-

स्वजन द्वारा चिकित्सक के गायब रहने की शिकायत की गई है। एसएनसीयू के चिकित्सक द्वारा नवजात को देखने की बात कही गई है। एक महिला चिकित्सक अवकाश पर है इसलिए परेशानी हो रही है। वैसे जांच की जाएगी।