एम्स में सात लोगों ने किया प्लाज्मा दान

PATNA(अजित यादव): पटना एम्स में सोमवार को सात लोगों ने स्वेक्षा से पहुंचकर अपना प्लाज्मा दान किया है. एम्स में प्लाज्मा दान करने वाले लोगो की संख्या बढती जा रही है जिससे एम्स के चिकित्सक व अन्य स्वास्थ्य कर्मी उत्साहित हैं. इधर सरकार भी प्लाज्मा दान करने वालो को प्रोत्साहित करने में लगी है. पटना एम्स में ब्लड ट्रांसफ्यूजन ऑफिसर डॉ नेहा ने बताया की सोमवार को सात लोगों ने प्लाज्मा दान किया है जिसके बाद अबतक एम्स में कुल 148 लोग अपना प्लाज्मा दान कर चुके हैं. एम्स में प्लाज्मा दान करने आये पटना एक पटेल नगर निवासी दुर्गेश तिवारी ने प्लाज्मा दान करने के बाद कहा की उसे बहुत ही अच्छा लग रहा है. कहा की हमारे प्लाज्मा दान करने से दुसरे कोरोना के गंभीर मरीजो के इलाज में आसानी होगी और कईयों को नयी जिन्दगी मिलेगी इससे बढकर और क्या ख़ुशी की बात हो सकती है. साथ ही बताया की 15 दिनों बाद मैं स्वेक्षा से पुनः एम्स आकर डोनेट करूँगा अपना प्लाजमा. दुर्गेश ने बताया की वह खुद कोरोना संक्रमण का स्वेक्षा से आकर एम्स में जांच कराये थे और फिर यहाँ इलाज के बाद अपने घर में ही होम कोरोंटीन में रहकर पूरी तरह स्वस्थ्य हो चूका है. दुर्गेश ने भी कोरोना से स्वस्थ्य हुए अपने दोस्तों और अन्य लोगो को स्वेक्षा से देशहित और मानवहित में प्लाज्मा दान करने की अपील की है. दुर्गेश ने बताया की वह एम्स से अपनी मर्जी से ही घर चला गया था जिससे उसकी कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव उसी रात आई थी जो उसे नही मिल पाया था. निगेटिव रिपोर्ट पास में नही रहने पर थोड़ी परेशानी तो हुई लेकिन एम्स के चिकित्सा अधीक्षक डॉ सीएम सिंह ने उसकी मुश्किलों को हल करते हुए प्लाज्मा दान कराने में सहायता की.

दुर्गेश तिवारी ने बताया अपने साथ अपने परिवार और समाज की जिम्मेवारी भी ले के चलना चाहिए । आज मैं खुद ब्लड बैंक गया तो मेरा प्लाज्मा नही लिया जा रहा था क्योंकि मेरा नेगेटिव रिपोर्ट की हार्ड कॉपी मेरे पास नही थी। इसके बाद एम्स में बहुत जगह गया कहीं से रिपोर्ट नही मिला । अंत मे एम्स के मेडिकल सुपरिटेंडेंट से मिला जो मुझे मेरा नेगेटिव रिपोर्ट निकाल के दिये उसके बाद मैंने अपना प्लाज्मा जरूरतमंद व्यक्ति जिसे मैं जानता तक नही था इसे दिया गया । फिर 15 दिन बाद मैं स्वेक्षा से पुनः डोनेट करूँगा । हम सभी लोग को मिलजुल के कोरोना से लड़ने के लिए आगे आना चाहिए। प्लाज्मा को दान करना चाहिए। आप तीन दिन के बाद पुनः प्लाज्मा दान कर सकते है। आपका प्लाज्मा किसी का जीवन तो किसी के जीवन की खुशियों को बचाये रखने में सहायक होगा। आपका इसमे कुछ नही लगना है फिर भी आप दूसरे को बहुत कुछ दे सकते है। अतः जो लोग भी कोरोना से उबर चुके है वो अभी के लिए देवदुत है। आपलोग सामने आए।