एम्स के पास दवा दुकानदार और स्टाफ को किया गिरफ्तार!

फूलवारीशरीफ(अजित यादव): एम्स के पास एक दवा दूकान से कोरोना इलाज के दी जाने वाली दवा रेमडीसीवीर को अधिक दाम पर कालाबाजारी करके बेचे जाने की शिकायत पर औषधि नियंत्रक विभाग की टीम ने एक दवा दुकानदार सह फार्मासिस्ट प्रवीण कुमार और उसके स्टाफ़ चन्दन को गिरफ्तार कर लिया. जानकारी के अनुसार ड्रग्स विभाग के पास एक शिकायत आई थी कि एम्स के सविता मेडीकल हाल में कम कीमत की कोविड 19की दवा को अधिक दामों बेचा जा रहा है जिसके बाद एक तीन सदस्यीय टीम गठित कर छापेमारी करते दवाखाना के संचालक सहित दो लोगों पक्का बिल नही देने और दवा को अधिक दाम में बेचने को लेकर कानूनी करवाई करते गिरफ्तार लोगो के विरुद्ध फुलवारी शरीफ थाना में प्राथमिकी दर्ज कराया गया है। कोरोना महामारी के बीच चारो तरफ से जिंदगी और मौत के जदोजहद के साथ जंग लड़ रही मानवता को ताक पर रखकर चंद रुपये अधिक कमाने की चाहत कालाबजारी करने वाले छोड़ना नही चाहते हैं। आरा से एम्स पटना में इलाज कराने आई महिला कोरोना संक्रमित होकर एम्स में पड़ी है वही उसके बेटे ने एम्स के पास ही जब एक दवा दुकान से रेमडीसीवीर दवाई खरीदने गए तो 4800 की दवा 6000 में दी गयी । इसकी शिकायत पटना औषधि नियंत्रक से की गई थी । ड्रग इंस्पेक्टर संजय कुमार ने बताया कि औषधि नियंत्रक पटना के निर्देश पर एक टीम का गठन किया गया था । टीम ने छापेमारी करके एम्स के पास एक दवा दुकान सवीता मेडिकल के प्रोपराइटर सह फार्मासिस्ट प्रवीण कुमार और दुकान स्टाफ चन्दन को गिरफ्तार कर लिया गया।