अवैध संबंधों की एक ऐसी कहानी कि जिसने भी सुना, उसके होश उड़ गए!

नई दिल्ली(न्यूज़ क्राइम24): रिश्तों में प्रेम और विश्वास जरूरी होता है, लेकिन कई बार ये रिश्ते ऐसे मुकाम पर पहुंच जाते हैं, जो एक खतरनाक साजिश को अंजाम देने से भी नहीं चूकते। यह कहानी एक ऐसे ही रिश्ते की है। दरअसल, उत्तर प्रदेश के चंदौली में पुलिस ने दो महीने पहले हुए एक युवक के सनसनीखेज हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने का दावा किया है। इस मामले में पुलिस ने हत्या के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया है जबकि इस हत्याकांड का एक आरोपी पहले से ही पुलिस की गिरफ्त में है, जिसकी निशानदेही पर इस हत्याकांड का खुलासा हुआ है। दरअसल 2 महीने पहले 28 अगस्त को चंदौली कोतवाली के धुरी कोट गांव में राकेश रोशन नाम के एक युवक का शव मिला था, जिसकी किसी ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस इस मामले की जांच पड़ताल कर रही थी लेकिन पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पा रही थी। पुलिस को कोई क्लू नहीं मिल पा रहा था। इस बीच 29 अक्टूबर को पुलिस ने एक मुठभेड़ के दौरान आशुतोष यादव नाम के एक अपराधी को गिरफ्तार किया।

पुलिस पूछताछ में हुआ यह खुलासा पुलिस की कड़ी पूछताछ में आशुतोष यादव ने अपने पिछले गुनाहों को भी कबूल लिया। आशुतोष ने इस बार वो सच बताया कि पुलिस भी दंग रह गई। यादव ने पुलिस को बताया कि 2 महीने पहले हुई राकेश रोशन की हत्या में वह शामिल था। उसकी हत्या उसके छोटे भाई मुकेश यादव ने की थी। पुलिस ने आशुतोष यादव की दी गई जानकारी के आधार पर मुकेश यादव को हिरासत में लिया और जब पूछताछ की तो इस हत्याकांड के पीछे के कारण से भौंचक रह गई।

मुकेश यादव ने बताया कि उसने अपने बड़े भाई की हत्या इसलिए की थी क्योंकि उसकी पत्‍नी के साथ भाई के अवैध संबंध बन गए थे। मुकेश यादव 3 साल पहले हुए एक हत्याकांड के मामले में जेल में था। इसी दौरान उसके बड़े भाई राकेश रोशन का संबंध उसकी पत्नी के साथ हो गया। कुछ महीने पहले जब मुकेश जमानत पर छूटकर घर आया तो उसे इन अवैध संबंधों की भनक लग गई। इधर, आशुतोष यादव भी किसी मामले में जेल में बंद था और उसकी दोस्ती मुकेश यादव से हो गई थी। इस बीच जब आशुतोष यादव जमानत पर छूटकर जेल से बाहर आया तो मुकेश ने आशुतोष को पूरी कहानी बताई। इसके बाद दोनों ने मिलकर बड़े भाई की हत्या की साजिश रच डाली।

इस तरह किया मर्डर-

मुकेश यादव, आशुतोष यादव और उसके एक अन्य दोस्त रामानंद के साथ अपने बड़े भाई राकेश रोशन को शराब पीने के बहाने गांव के बाहर सीवान में ले गया। इसके बाद उसने अपने बड़े भाई राकेश रोशन को गोली मार दी।

पुलिस को 28 अगस्त को हुए इस हत्याकांड में किसी तरह का सुराग नहीं मिल पा रहा था लेकिन दो दिन पहले जब पुलिस ने एक मुठभेड़ में 50 हजार के इनामी बदमाश आशुतोष यादव को पकड़ा तो पूछताछ के दौरान राकेश रोशन की हत्याकांड की भी गुत्थी सुलझ गई। पुलिस ने इस मामले में राकेश रोशन की हत्या में शामिल उसके छोटे भाई मुकेश यादव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। जबकि इस हत्याकांड का एक अन्य आरोपी रामानंद अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।